इस्लामी देशों में महिलाओ की स्तिथि क्या है, ये किसी से छुपी हुई नहीं है. महिलाएं दूसरे दर्जे की मनुष्य मानी जाती है, यहाँ तक की कई इस्लामी देशों में बेगम को पीटना क़ानूनी तथा जायज है .

और बड़े बड़े इस्लामी विद्वान कुरान और हदीस का हवाला देकर इसे सही ठहराते है यहाँ तक की वो बेगम की पिटाई इस्लाम अनुसार कैसे करना है ये भी सिखाते है.

violence_women

खैर, खबर है इस्लामी देश मोरक्को से जहाँ टीवी पर महिलाओं को ये ज्ञान दिया गया की अगर शौहर आपको पीटे और निशान बन जाएँ तो उस निशान को कैसे छुपाएं ताकि कोई न जान सके की आपके शौहर ने आपको पीटा है.

बता दें की मोरक्को को मॉडरेट मुस्लिम देश माना जाता है, यानि थोड़ा कम इस्लामिक कट्टरवाद है मोरक्को में. पर मॉडरेट और रेडिकल इस्लाम कुछ नहीं होता, इस्लाम तो इस्लाम होता है

बता दें की मोरक्को के टीवी चैनल M2 पर ये शोर प्रसारित किया गया.

जहाँ एक महिला दूसरी महिला को लेकर टीवी पर दिखाई गयी, पहली महिला ने बताया की अगर शौहर पीटे तो किन कॉस्मेटिक तरीकों से आप अपने घाव या चोट के निशान छुपा सकते है ताकि किसी को आपकी पिटाई की बात पता न चले .

Also Read :  Why Sonu Nigam Is Targeting Muslims and Azaan In The Name Of Forced Religiousness?

महिला ने विभिन्न तरीके बताये, लेप बताये, क्रीम बताई जो आपके त्वचा पर लगे घाव के निशान को छुपा सकते है, या जल्द उसे ठीक कर सकते है.

आप सोच सकते है की इस्लामी देशों में इस बात की चर्चा नहीं हो रही की, पुरुषों को महिलाओ को पीटने से कैसे रोका जाये, इस बात पर चर्चा हो रही है की महिला चोट कैसे छुपाएं.

दुनियाभर के बुद्धिजीवी और फेमिनिस्ट यानि महिलावादी, इस्लामी देशों में चल रहे कुकर्मो पर चुप ही रहते है.

Now You Can Get the Latest Buzz On Your Phone! Download the PagalParrot Mobile App For Android