कुछ दिनों पहले चर्चा थी कि सरकार ने 10 रुपए के सिक्के बंद कर दिए हैं। हालांकि आरबीआई के बयान जारी कर यह कहने के बाद कि सिक्के बंद नहीं हुए हैं, यह चर्चाएं तो थम गई हैं, लेकिन अब एक नई समस्या शुरू हो गई है। बैंकर्स की मानें तो बाजार में 10 रुपए के कुछ सिक्के नकली आए हैं।

खबर दी थी कि अगर 10 रुपये के सिक्के को कोई लेने से मना करता है या इनके बंद होने की अफवाह फैलाता है तो उस पर आरबीआई (भारतीय रिजर्व बैंक) देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कराएगा। हालांकि ये सच भी है कि बाजार में 10 रुपये के नकली सिक्के चल रहे हैं तो आज हम आपको बताएंगे कि 10 रुपये के असली सिक्के को आप कैसे पहचानें।

यह है असली नकली की पहचान :

difference between fake and original 10 rs coin

– असली सिक्के में रुपए का साइन है, जबकि नकली में केवल 10 का अंक लिखा हुआ है।

difference between fake and original 10 rs coin

– असली सिक्के में रुपए का साइन है, जबकि नकली में केवल 10 का अंक लिखा हुआ है।

difference between fake and original 10 rs coin

– असली सिक्के के दूसरी ओर भारत और इंडिया अलग अलग खिला है, जबकि नकली में एक साथ लिखा हुआ है।

नकली सिक्कों की अफवाह

दुकानदार और ग्राहका एक दूसरे से 10 रुपए के सिक्के लेने से मना कर रहे हैं। हालांकि यह कोरी अफवाह है और आरबीआई ने इससे साफ इनकार किया है। बताया जा रहा है कि किसी सिरफिरे ने 10 रुपए के सिक्के बंद किए जाने की झूठी बात फैला दी। यह बात शहर के पनवाड़ी और चाय वाले से लेकर धीरे धीरे तमाम छोटे दुकानदारों तक फैल गई।

क्या कहते हैं बैंक अधिकारी

बैंक अधिकारियों ने साफ किया है कि 10 रुपए के सिक्के पर कोई रोक नहीं लगी है। अगर कोई व्यक्ति इसे लेने से मना करता है तो उसके ऊपर कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। एलडीएम आर सी नायक ने कहा कि आरबीआई के मापदंड़ों को मानने से इनकार करने पर आईपीसी की धारा 489ए से लेकर 489ई के तहत केस दर्ज किया जा सकता है। लोगों को चाहिए कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें। मामले की जांच की जा रही है। अफवाह फैलाने वालों पर कार्रवाई होगी।

Now You Can Get the Latest Buzz On Your Phone! Download the PagalParrot Mobile App For Android