News जानिये की आखिर क्यों भगवान् हनुमान ने भीम को अपने शरीर से...

जानिये की आखिर क्यों भगवान् हनुमान ने भीम को अपने शरीर से कुल तीन बाल तोड़ कर दिए

महाभारत मैं पांडवो की जीत हुई थी उसके बाद पांडव ख़ुशी ख़ुशी अपना जीवन बीतने लगे. एक दिन नारद मुनि महाराज युदिष्ठर के सामने प्रकट हुए और कहा की आपके पिता स्वर्गलोक मैं बहुत दुखी है. जब युधिष्टर ने इसका कारण पूछा तोह नारद ने बताया की वह अपने जीवन के दौरान राजस्य यज्ञ कराना चाहते थे जो की वह नहीं करवा पाए. अतः आपको अपने पिता की शांति के लिए ये यज्ञ करवाना चाहिए.

pandavas

जब यज्ञ करवाने का फैसला हुआ तोह युधिष्टर ने शिव के परम भक्त पुरुष मागा को आमनत्रित करने का फैसला भी लिया. और उन्हें ढूंढने का काम भीम को सोप गया. और भीम ने उनकी आज्ञा मानी. भीम जब पुरुष मागा को ढूंढने के लिए गए तोह उन्हें रास्ते मैं हनुमान मिले. तब हनुमान जी ने भीम को अपने शरीर के तीन बाल दिए थे तथा कहा था की इन्हे अपने पास रखो संकट के समय में ये तुम्हारे काम आएंगे.

mantra

कुछ दुरी पर ही चलकर भगवान शिव को पुरुष मृगा मिल गए जो महादेव शिव की स्तुति कर रहे थे.  भीम  ने उनके पास जाकर उन्हें प्रणाम किया तथा अपने आने का प्रयोजन बताया. इस पर ऋषि पुरुष मृगा भी उनके साथ चलने को राजी हो गए.पर इसके साथ ही पुरुष मृगा ने यह शर्त भी  रखी की भीम को ऋषि पुरुष मृगा से पहले हस्तिनापुर पहुंचना होगा नहीं तो वे उन्हें खा जाएंगे. भीम ने ऋषि पुरुष मृगा की यह शर्त स्वीकार कर ली तथा अपनी पूरी शक्ति के साथ वे हस्तिनापुर की और भागे.

 bheem-and-hanuman

काफी दौड़ने के बाद भागते-भागते भीम  ने जब पीछे की ओर यह जानने के लिए देखा की ऋषि पुरुष मृगा कितने पीछे रह गए तो उन्होंने पाया की ऋषि बस उन्हें पकड़ने ही वाले है. यह देख वो चौक गए और शीघ्रता से भागने लगे तभी उन्हें हनुमान जी के दिए उन तीन बालों की याद आई. भीम  ने उनमे से एक बाल दौड़ते-दौड़ते जमीन में फेक दिया. वह बाल जमीन में गिरते ही लाखो शिवलिंग में परिवर्तित हो गए. भगवान शिव के परम भक्त होने के कारण ऋषि पुरुष मृगा प्रत्येक शिवलिंग को प्रणाम करते हुए आगे बढ़ने लगे और वही भीम भी लगातार भागते रहे.  जब भीम को लगा की ऋषि अब फिर से उन्हें पकड़ ही लेंगे उन्होंने फिर से एक बाल गिरा दिया और वह बहुत से शिवलिंग में परिवर्तित हो गए. इस प्रकार से भीम ने ऐसा तीन बार किया. अंत में जब भीम हस्तिनापुर के द्वार में घुसने ही वाले थे की ऋषि पुरुष मृगा ने उन्हें पीछे से पकड़ लिया, हालाकि भीम ने छलांग लगाई थी परन्तु उनके पैर दरवाजे के बाहर ही रह गए थे.

Now You Can Get the Latest Buzz On Your Phone! Download the PagalParrot Mobile App For Android and IOS

Next Story

‘Man Vs Wild’ with PM Modi a global hit; Tweets Bear Grylls

In the relatively recent past, ‘Man Vs Wild’ have Bear Grylls set his foot in India for an undertaking into the wild...

Share